पर्यावरण की देखभाल

एमआरपीएल की पर्यावरण संबंधी नीति देखें


एमआरपीएल में पर्यावरण प्रबंधन कक्ष की कुछ महत्वपूर्ण गतिविधियां इस प्रकार हैं,


वायु प्रदूषण रोकने और घटाने के उपाय

पर्यावरण के निष्पा दन में सुधार करने की दिशा में कोशिश के तौर पर हमने प्रदूषण नियंत्रण के प्रति कुछ उपाय इस प्रकार किए हैं:

  • कम गंधक युक्त ईंधन तेल का उपयोग और ईंधन के रूप में रिफाइनरी के बहिर्गैस का अधिकतम उपयोग करना
  • विभिन्न हीटरों में कम NOx उत्सगर्जित करने वाले बर्नर लगाए गए हैं
  • PFCCU में अत्याधुनिक साइक्लोृन प्रणाली संस्थापित की गई है
  • तमाम उत्पाीदों और स्तंभ के ओवरहेड्स के लिए फिन फैन कूलर्स के साथ-साथ ट्रिम कूलर्स का अधिकतम उपयोग करना
  • सल्फ़ानईड और फेनॉल्सर हटाने के लिए हाइड्रोजन पेरॉक्सा ईड का उपयोग करने वाली सबसे पहली रिफाइनरी रही है जिसे बाद में भारत की अन्यक रिफाइनरियों ने अपनाय।
  • आधुनिक व्यर्थ जल उपचार संयंत्र, सीक्वेंशियल बैच रीएक्टर (SBR), मेंब्रेन बायो रीएक्टर(MBR) अल्ट्राग फिल्टनरेशन(UF) और रिवर्स ऑस्मोसिस(RO) युक्त व्यर्थ जल उपचार संयंत्र, रिफाइनरी में चालू किया गया ह।
  • मंगलूर शहर से तृतीयक क्षेत्र द्वारा उपचारित घरेलू मल-जल का अधिकतम उपयोग किया गया ह।
  • ध्वलनि उत्पसन्नत करने वाले विभिन्न उपकरणों में अकाउस्टिक हुड्, साइलेंसर और मफ्लर लगाए गए हैं जिससे ध्वशनि स्तनर काफ़ी हद तक घट गया ह।
  • PFCC का भुक्ततशेष उत्प्रेंरक, सह-प्रोसेसिंग की खातिर सिमेंट उद्योग के पास भेजा जा रहा ह।
  • ETP में उत्पतन्न‍ तेलयुक्तर कीचड़ का डीलेड कोकर यूनिट (DCU) में प्रोसेसिंग किया जाता ह।
  • DCU में क्लोतस्डन ब्लोु डाउन डायवर्टर्स संस्थाकपित किए गए हैं जिससे कि कोई धूल और गंध उत्प/न्न हो तो उसे कम किया जा सकता ह।
  • कुहासा उत्पा्दन प्रणाली, शुष्को कुहासा प्रणाली, क्लोथस्डि कन्वेगयर्स, जल फुहारें, विंड ब्रेकिंग वॉल और फ्लोर स्वीमपिंग मशीन संस्थाेपित की गई हैं जिससे कि पेट्ट कोक संभालते समय धूल निकलने से रोका जा सके और धूल को बाहर निकाला जा सके.
  • पर्यावरण संबंधी नीचे उल्लिखित मापदंडों की पूर्ति करने के लिए लगातार निगरानी रखी जा रही है,
  • ✓  रिफाइनरी के इर्द-गिर्द 9 स्थामनों पर परिवेशी वायु की गुणवत्ताल,

    ✓  परिवेशी वायु की गुणवत्ता9 पर लगातार निगरानी रखने की 2 प्रणालियां

    ✓  स्टैपक गैस (मैनुअल और ऑनलाइन) में SOx, NOx, CO और PM

    ✓  उपचारित बहिस्राव की गुणवत्ता

    ✓  रिफाइनरी के इर्द-गिर्द भूपृष्ठा जल और भौम जल की गुणवत्ता

    ✓  VOC से उत्स र्जन

    ✓  प्रक्रिया यूनिटों के अंदर और रिफाइनरी की परिसीमा दीवारों के पार्श्वत में ध्वरनि स्तगर

    ✓  काम करने के माहौल पर निगरानी


समुदाय जागरूकता कार्यक्रम


विश्व पर्यावरण दिवस 2016 के समारोह


प्रदूषण कम करने के उपाय।


बहिस्राव उपचार संयंत्र


हरित पट्टी और भूदृश्यौ निर्माण:

  • प्रकृति की तरफ हर कोई अनायास खींचा चला जाता है. इससे थके-मांदे नसों को सुकून मिलता है और मानवीय जीवन की सर्वाधिक ज़रूरत, मन को शांति मिलती है.
  • एमआरपीएल ने अपने इर्द-गिर्द ऐसे रमणीय दृश्य बनाए हैं जो प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर हैं जैसे बहती धाराएं, आसमान छूते नजर आने वाले हरे-भरे पेड़, हरी घास का मुलायमदार कार्पेट तथा रंगबिरंगी और विभिन्न आकार के फूलों की वाटिका; रिफाइनरी का पास-पडोस ऐसी खूबसूरत वादियों से भरा है.
  • रिफाइनरी में उपलब्ध प्राकृतिक हरियाली के अलावा, एक व्यापक हरित पट्टी विकास कार्यक्रम बनाकर रिफाइनरी में लागू किया गया है.
  • एमआरपीएल के परिसर में कुल मिलाकर 54 प्रजातियों के पौधे हैं.
  • एमआरपीएल ने कार्यालय परिसर और कॉलोनी में बगीचे बनाए हैं.
  • कॉलोनी और कार्यालय परिसर में 25 एकड़ से अधिक जमीन में बगीचा बनाया गया है जिसमें हरियाली से चहचहाता मलमल मैदान हैं, विभिन्न प्रकार के बाड़ हैं, अलग-अलग किस्मा के फूल हैं और फूल न देने वाले झाड़, जमीनी आच्छादन हैं, चट्टानों के बीच बहती जल धाराएं हैं. एमआरपीएल के खूबसूरत बगीचे के लिए सरकारी बागबानी विभाग और सिरी हॉर्टिकल्चिरल सोसाइटी, मंगलूर ने बड़े पैमाने पर हुए पुष्प प्रदर्शन-2001 की बगीचा प्रतिस्पर्धा में प्रथम पुरस्काचर दिया.


पर्यावरण से संबंधित आंकड़ें