परिष्‍करण

परिष्‍करण संबंधी प्रक्रिया

क्रूड ऑयलके संघटक के रूप में कार्बन और हाइड्रोजन के अणुओंकी कॉम्लेेनि क्से चैन होती है। इसके अलावा, सल्फर, नाइट्रोजन और धातुओं इत्यानदि अन्य, तत्वन भी सदोष कच्चे ऑयलमें मौजूद होतेहैं। क्रूड ऑयलकीसंरचना के आधार पर उन्हेंट पैराफेनिक, नैफ्थेनिक या एरोमेटिक क्रूड में वर्गिकृत किया जाता है ।

रिफाइनरी प्रक्रियाओं को निम्नत प्रकार से वर्गीकृत किया जा सकता हैं:

  1. प्राथमिक प्रसंस्करण इकाइयां
  2. माध्यमिक प्रसंस्करण इकाइयां
  3. उपचारात्मपक इकाइयां

प्राथमिक प्रसंस्करण यूनिट

ऑयलरिफाइनरी में कच्चे ऑयलकी यूनिट को प्राथमिक प्रसंस्करण इकाई के रूप में जाना जाता है, जिसमें कच्चे ऑयल हाइड्रोकार्बन घटकों कीअस्थिरता के आधार पर कच्चे ऑयल को विभिन्न उत्पादों में विभाजित किया जाता है।

माध्यमिक प्रोसेसिंग यूनिट

माध्यमिक प्रसंस्करण इकाइयों में कच्चेऑयल यूनिट से फीडस्टॉक मुहैया करवाया जाता है जहां इन्हेंत मूल्य वर्धित उत्पादों के रूप में परिवर्धित किया जाता है। एमआरपीएल में निम्न्लिखितमुख्य माध्यमिक प्रसंस्करण इकाइयां हैं:

  • हाइड्राक्रैकर यूनिट
  • लगातार उत्प्रेरक रीजनरेशन प्लेपटफोर्मिंग यूनिट
  • आईसोमेराइजेशन यूनिट
  • गैस ऑयल हाइड्रो-डीसल्फराइजेशन यूनिट
  • पेट्रो तरलीकृत उत्प्रेरक क्रेकिंगइकाई
  • डीलेयडकोकर यूनिट
  • विसब्रेकर यूनिट
  • बिटुमेन यूनिट

उपचारात्मक यूनिट

इन प्रक्रियाओं के चलते रिफाइनरी उत्पादों का मूल्यक संवर्धन होता है जिससे उत्पािदों के मुनाफे में वृद्धि हुई है। सल्फर, नाइट्रोजन और अन्य धातुओं जैसीअशुद्धियों को दूर करने में उपराचात्मसक इकाइयां एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, जिसके चलते उत्पाद के लिए निर्धारित स्पेचशिफिकेशन को प्राप्त् किया जाता है। एमआरपीएल में निम्नैलिखित महत्वपूर्ण उपराचात्मेक इकाइयां हैं:

  • एलपीजी / नाफ्ता / केरोसिन मेरोक्स यूनिट
  • डीज़ल हाइड्रोट्रीटर यूनिट
  • कोकर गैस-ऑयलहाइड्रो ट्रीटिंग यूनिट
  • पॉलीप्रोपलीन यूनिट
  • सल्फलर रिकवरी यूनिट

प्रक्रिया ब्लॉक आरेख